Shayari on Dosti - दोस्ती पर शायरी

Shayari on Dosti  

1.
Jalte Hai Mere Dushman Mujhase,
Kyuki Mere Dost mujhako,
Apana Dost Nhi  Apana Bhai Manate Hai.

जलते है मेरे दुश्मन मुझसे

क्यूकि मेरे दोस्त  मुझको
अपना दोस्त नहीं अपना भाई  मानते है

Shayari-on-Dosti
Shayari on Dosti  -  दोस्ती पर शायरी


Maine Socha  Hum Bhi Kar Lete Hai Dosti,
Dost Hi Nahi Mila Waisa,
To Kisase Kare Dosti.

मैंने सोचा हम भी कर लेते है दोस्ती 

दोस्त ही नहीं मिला वैसा 
तो किससे करे दोस्ती  

3.

Sukoon Sa  Dil Ko Milata Hai Aey Mere Dost,
Tere Dil Me Apne Liye Apmaan Dekh Kar.

सुकून सा दिल को मिलता है ऐ मेरे दोस्त 

तेरे दिल में अपने लिए अपमान देख कर 

4.

Hum Wakt Ko gujaarne Ke Liye Dosti Nhi Karte Hai,
Dost Ke Sath Rahane Ke Liye Wakt Nikaalate Hai.

हम वक्त को गुजारने  के लिए  दोस्ती नहीं करते है 

दोस्त के साथ रहने के लिए वक्त निकालते है 


5.
Sada Dua Karte Hai Hum Sir Jhukaye,
Aye Mere Dost Tu Apani Manzil Mujhase Jaldi Paye.

 सदा दुआ करता है हम सर झुकाये 
 ऐ मेरे दोस्त तू अपनी मंज़िल मुझसे जल्दी पाए 


Shayari-on-Dosti
Shayari on Dosti  -  दोस्ती पर शायरी


Shayari on Dosti - दोस्ती पर शायरी Shayari on Dosti  -  दोस्ती पर शायरी Reviewed by Free Status on July 17, 2018 Rating: 5

1 comment:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

Powered by Blogger.